दूध की प्लास्टिक बोतल आदि में रासायनिक द्रव्य की कोटिंग होती है। उस बोतल में या थैली में गर्म दूध डालने पर हानिकारक रसायन दूध में मिल जाते हैं। अत: छोटे बच्चों को प्लास्टिक की
बोतल की जगह धातु की बनी कटोरी-चम्मच से दूध पिलाना चाहिए।

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट (CSE) ने अपने अध्ययन में कहा कि बच्चों के दाँत निकलते समय उन्हें दिये जानेवाले खिलौनों
(teether) में बहुत खतरनाक रसायन होते हैं।

अतः बच्चों को प्लास्टिक के टीथर देने के बजाय खीरे या गाजर के बड़े टुकड़े (जिन्हें बच्चे निगल न सके) दे सकते हैं।

बच्चों को प्लास्टिक-निर्मित किसी भी प्रकार के खिलौने देना हानिकारक है क्योंकि उन्हें वे प्रायः मुँह में डाल लेते हैं।