Skip to content
  • हमारे दूरदर्शी ऋषि-मुनियों ने शरद पूनम जैसा त्यौहार भी इस ऋतु में विशेषकर स्वास्थ्य की दृष्टि से ही आयोजित किया है । शरद पूनम को रात्रि-जागरण, रात्रि-भ्रमण, मनोरंजन आदि को उत्तम पित्तनाशक विहार के रूप में आयुर्वेद ने स्वीकार किया है ।
  • शरद पूर्णिमा की रात को चन्द्रमा की किरणों से अमृत बरसाता है । ये किरणें स्वास्थ्य के लिए अत्यन्त लाभदायी हैं । इस रात्रि में शरीर पर हल्के-फुल्के परिधान पहनकर चन्द्रमा की चाँदनी में टहलने, घास के मैदान पर लेटने तथा नौका-विहार करने से त्वचा के रोमकूपों में चन्द्र किरणें समा जाती हैं और बंद रोम-छिद्र प्राकृतिक ढंग से खुलते हैं । शरीर के कई रोग तो इन चन्द्र किरणों के प्रभाव से ही धीरे-धीरे दूर होने लगते हैं ।
  • इन चन्द्र किरणों से त्वचा का रंग साफ होता है, नेत्रज्योति बढ़ती है एवं चेहरे पर गुलाबी आभा उभरने लगती है । यदि देर तक पैरों को चन्द्र किरणों का स्नान कराया जाय तो ठंड के दिनों में तलुए, एड़ियाँ, होंठ फटने से बचे रहते हैं ।
  • चन्द्रमा की किरणें मस्तिष्क के लिए अति लाभकारी हैं मस्तिष्क की बंद तहें खुलती हैं, जिससे स्मरणशक्ति में वृद्धि होती है। साथ ही सिर के बाल असमय सफेद नहीं होते हैं ।

Amrit Barsati Sharad Purnima

हमारे दूरदर्शी ऋषि-मुनियों ने शरद पूनम जैसा त्यौहार भी इस ऋतु में विशेषकर स्वास्थ्य की दृष्टि से ही आयोजित किया है । शरद पूनम को रात्रि-जागरण, रात्रि-भ्रमण, मनोरंजन आदि को उत्तम पित्तनाशक विहार के रूप में आयुर्वेद ने स्वीकार किया है ।

Importance of Sharad Purnima Mahatva 

  • शरद पूर्णिमा की रात को चन्द्रमा की किरणों से अमृत बरसता है । ये किरणें स्वास्थ्य के लिए अत्यन्त लाभदायी हैं । इस रात्रि में शरीर पर हल्के-फुल्के परिधान पहनकर चन्द्रमा की चाँदनी में टहलने, घास के मैदान पर लेटने तथा नौका-विहार करने से त्वचा के रोमकूपों में चन्द्र किरणें समा जाती हैं और बंद रोम-छिद्र प्राकृतिक ढंग से खुलते हैं । शरीर के कई रोग तो इन चन्द्र किरणों के प्रभाव से ही धीरे-धीरे दूर होने लगते हैं ।
  • इन चन्द्र किरणों से त्वचा का रंग साफ होता है, नेत्रज्योति बढ़ती है एवं चेहरे पर गुलाबी आभा उभरने लगती है । यदि देर तक पैरों को चन्द्र किरणों का स्नान कराया जाए तो ठंड के दिनों में तलवे, एड़ियाँ, होंठ फटने से बचे रहते हैं ।
  • चन्द्रमा की किरणें मस्तिष्क के लिए अति लाभकारी हैं, मस्तिष्क की बंद तहें खुलती हैं, जिससे स्मरणशक्ति में वृद्धि होती है । साथ ही सिर के बाल असमय सफेद नहीं होते हैं ।

शरद पूर्णिमा की कथा : रासलीला किसको कहते हैं ?

शरद पूनम की रात….  मंद-मंद पवन बह रही है। राधा रानी के साथ हजारों सुंदरियों के बीच भगवान बंसी बजा रहे हैं। कामदेव ने अपने सारे दाँव आजमा लिये। सब विफल हो गया ।

कामदेव ने भगवान श्रीकृष्ण से कहा कि “हे देव ! मैं बड़े-बड़े ऋषियों, मुनियों, तपस्वियों ब्रह्मचारियों को हरा चुका हूँ । मैंने ब्रह्माजी को आकर्षित कर दिया। शिवजी की भी समाधि विक्षिप्त कर दी। भगवान नारायण !

खीर खाता है कि डंडा

एक लोभी सेठ था । खाने का लोभी… पत्नी तो मर गई थी,रसोइये को बोला खीर बना दे । मैं घूमकर आता हूँ । रास्ते में कोई मिला,पूछा- “कहाँ जा रहे हो।” “शादी में” “चलो मैं भी आता हूँ ।” चटोरा तो था,खाया इतना खाया कि खाने का माल गले तक भरा ।

अब खीर तो है महँगी, केसर-वेसर डाला है । ये रसोइया खा जाएगा । उस लोभी चालाक ने नौकर को झुठलाया बोले तू भी सो जा रामू,मैं भी सो जाता हूँ,…

Sharad Poonam 2020: Pujya Bapuji's Sandesh

  • रासलीला इन्द्रियों और मन में विचरण करने वालों के लिए अत्यंत उपयोगी है लेकिन राग, ताल, भजन का फल है – ‘भगवान में विश्रांति’ ।
  • रासलीला के बाद गोपियों को भी भगवान ने विश्रांति में पहुँचाया था । श्रीकृष्ण भी इसी विश्रांति में तृप्त रहने की कला जानते थे ।
  • संतुष्टि और तृप्ति सभी की माँग है। चन्द्रमा की चाँदनी में खीर पड़ी-पड़ी पुष्ट हो और आप परमात्म-चाँदनी में विश्रांति पाओ ।

Sharad Purnima Kheer recipe
[Kheer kaise Banaye]

  • खीर को ‘रसराज’ कहते हैं । सीता जी को अशोक वाटिका में रखा गया था । रावण के घर का क्या खायेंगी सीताजी ! तो इन्द्रदेव उन्हें खीर भेजते थे ।
  • खीर बनाते समय चाँदी का गिलास आदि जो बर्तन हो, आजकल जो मेटल (धातु) का बनाकर चाँदी के नाम से देते हैं वह नहीं, असली चाँदी के बर्तन अथवा असली सोना धो-धा के खीर में डाल दो तो उसमें रजतक्षार या सुवर्णक्षार आयेंगे। लोहे की कड़ाही अथवा पतीली में खीर बनाओ तो लौह तत्व भी उसमें आ जायेगा ।
  • इलायची, खजूर या छुहारा डाल सकते हो लेकिन बादाम, काजू, पिस्ता, चारोली ये रात को पचने में भारी पड़ेंगे । रात्रि 8 बजे महीन कपड़े से ढँककर चन्द्रमा की चाँदनी में रखी हुई खीर 11 बजे के आस पास भगवान को भोग लगा के प्रसादरूप में खा लेनी चाहिए ।

Sharad Purnima 2020: Chandra Darshan

  • इस रात को हजार काम छोड़कर 15 मिनट चन्द्रमा को एकटक निहारना । एक-आध मिनट आँखें पटपटाना । कम-से-कम 15 मिनट चन्द्रमा की किरणों का फायदा लेना, ज्यादा करो तो हरकत नहीं । इससे 32 प्रकार की पित्त संबंधी बीमारियों में लाभ होगा, शांति होगी ।
  • फिर छत पर या मैदान में विद्युत का कुचालक आसन बिछाकर लेटे-लेटे भी चंद्रमा को देख सकते हैं ।
  • इस रात्रि में ध्यान-भजन, सत्संग कीर्तन, चन्द्र-दर्शन आदि शारीरिक व मानसिक आरोग्यता के लिए अत्यन्त लाभदायक हैं ।

Kisi Ko Gussa Bahut Jaldi aata Ho ? : Kheer Khilao

  • जिस पत्नी का पति झगड़ालू हो, गुस्सेबाज हो, चिडचिडा हो अथवा जरा-जरा बात में कोई भी भड़क जाता हो, भडकू हो तो पूनम की रात खीर बनाओ और 7 बजे की बनी हुई, 8 बजे की बनी हुई खीर… पूनम के चंद्रमा के किरण उसमें पड़े, नेट से, जाली से या मलमल के कपड़े से ढंक दो ।
  • बीच-बीच में चांदी का चम्मच, चांदी की कटोरी हो तो अच्छा है, खीर हिलाओ और वो चंद्रमा की किरणों वाली खीर पति को खिलाओ । कितना भी झगड़ेबाज, गुस्सेबाज, अशांत व्यक्ति शांत हो जायेगा, झगड़े शांत हो जायेंगे ।

Sharad Poonam 2020 Ko Kya Kare, Kya Nahi Kare

  • शरद पूनम की शीतल रात्रि में छत पर चन्द्रमा की किरणों में रखी हुई दूध-चावल की खीर सर्वप्रिय, पित्तशामक, शीतल एवं सात्विक आहार है । इस रात्रि में ध्यान, भजन, सत्संग, कीर्तन, चन्द्र दर्शन आदि शारीरिक व मानसिक आरोग्यता के लिए अत्यंत लाभदायक है ।

Happy Sharad Poonam Wishes, Messages, Greetings, Images 2020

Sharad Purnima Special Videos

Sharad Poonam
1/0 videos