आज हम जानेंगे : कैसे एक संत को सताने से एक काजी अपने प्राण गँवा बैठा ?

मुगलों के समय की घटना है । संत दादू दीनदयालजी सांभर (जि. उदयपुर, राज.) में ठहरे हुए थे । वहाँ की जनता दर्शन व सत्संग हेतु उनके पास आने लगी । दादूजी के प्रति लोगों के हृदय में आदर व श्रध्दा देखकर एक काजी उनसे ईर्ष्या करने लगा। उसे ‘दादू’ नाम सुनने मात्र से पीड़ा होने लगी । क्रोध एवं मद में अंधा होकर काजी उनके पास आया और अकड़कर बोला : ‘‘अरे काफिर ! तूने सारे नगर की जनता को बरगला दिया है । मैं तुझे मजा चखाऊँगा ।”

दादूजी : ‘‘मूर्ख काजी ! तू क्रोध क्यों करता है ? मद में इतना चूर क्यों हो रहा है ? सब जीवों में एक खुदा का नूर बसा हुआ है और तुम जीवों को मारकर खा जाते हो । यह सब छोड़ दो,नहीं तो इन करतूतों से तुम नरक में ही पडोगे ।”
यह सुनते ही काजी उत्तेजित हो गया तथा दादूजी को एक तमाचा मार दिया । दादूजी ने कहा : ‘‘भैय्या ! तुमको मारने से ही प्रसन्नता होती है तो दूसरे गाल पर भी मार सकते हो ।”

काजी दुर्जन तो था ही, दूसरे गाल पर मारने के लिए हाथ उठाया तो उसका हाथ उठा ही रह गया, नीचे नहीं हुआ । उसमें भयंकर पीडा होने लगी । वह हाय-हाय करने लगा, चीखने-चिल्लाने लगा और तड़पता हुआ दादूजी को कोसने लगा ।

अपने प्यारे संतों और भक्तों का अपमान भगवान कभी सहन नहीं करते। काजी को अशांति और उद्विग्नता ने आ घेरा । जिस हाथ से काजी ने तमाचा मारा था वह धीरे-धीरे गल गया । तीन माह तक असहनीय कष्ट सहकर काजी तड़प-तड़प कर मर गया । संतों की निंदा करनेवालों के जीवन से सुख-शांति छू हो जाती है, अशांति, उद्विग्नता घर बैठे मुफ्त में मिलने लगती है । संतों के दैवी कार्य में विघ्न डालनेवालों को दुःख-परेशानियाँ आ घेरती हैं, कष्ट-मुसीबतें उनका पीछा नहीं छोडतीं । संतों को सतानेवालों का दिन का चैन व रात की नींद छिन जाती है ।


सीख :
संत सताये तीनों जाये तेज, बल और वंश ।
एडा-एडा कई गया रावण, कौरव , कंस ।।

संत साक्षात् भगवान का अवतार होते हैं । लोगों की कही हुई बातों में आकर किसी भी संत का अनादर या निंदा नहीं करनी चाहिए ।