fbpx
Skip to content
7 chakras names meaning
7 Chakras: Name, Colors, Mantras, Meaning in Hindi [Guide]
The 7 Chakras Name, Colors, Mantras, Place of Chakra in Body, Meaning in Hindi: हमारे शरीर में नीचे से ऊपर तक सात चक्र हैं । ये चक्र जितने विकसित होते हैं, उतना ही व्यक्ति का जीवन विकसित होता है । बच्चों को बाल संस्कार केन्द्र में इनकी महिमा आप बताएं और इस पर आधारित ये खेल भी खिलायें । सातों चक्रों के नाम बच्चों को याद करवायें और शरीर के
Read More
Shri Krishna ke anmol ratan gau aur geeta
Bhagwan Shri Krishna Ke Priya Anmol Ratan: Gau Aur Geeta
Lord Shri Krishna’s Favourite Things/ Animal ➠ भगवान श्रीकृष्ण का सम्पूर्ण जीवन मानवजाति के लिए एक महान आदर्श है ही परन्तु उनके जो दो प्रिय अनमोल रत्न हैं वे भी सभी के लिए आदरणीय,माननीय हैं। भगवान के वे दो रत्न हैं ‘गौ’ और ‘गीता’ । ➠ ‘गौ” शारीरिक एवं बौद्धिक विकास की संजीवनी है तो ‘गीता’ आत्मिक विकास के लिए संजीवनी अमृत है। भारतवासी यदि इन दो का आदर करना
Read More
mantra jap mahima 5 saal ke bacche ne drive ki car
5 Saal Ke Bacche Ne Car Drive Ki Traffic me: Mantra Jap Mahima
“मैंने पूज्य बापूजी से ‘सारस्वत्य मंत्र’ की दीक्षा ली है । जब मैं पूजा करता हूँ, बापूजी मेरी तरफ पलकें झपकाते हैं । मैं बापूजी से बातें करता हूँ। मैं रोज दस माला जप करता हूँ । मैं बापूजी से जो माँगता हूँ, वह मुझे मिल जाता है । मुझे हमेशा ऐसा एहसास होता है कि बापूजी मेरे साथ हैं । 5 जुलाई 2005 को मैं अपने दोस्तों के साथ
Read More
Shri Anandmayi Maa Sanskar
Benefit of Mata Pita Sanskar on Anandmayi Maa: MPPD 2021 Special
Benefit of Mata Pita Sanskar on Anandmayi Maa: Matru Pitru Pujan Divas 2021 Special आओ मनाएँ मातृ-पितृ पूजन दिवस : 14th February माता-पिता, दादा-दादी आदि के संस्कारों का ही प्रभाव संतान पर प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्षरूप से पड़ता है। श्री आनंदमयी माँ के पिता विपिनबिहारी भट्टाचार्य एवं माता श्रीयुक्ता मोक्षदासुंदरी देवी (विधुमुखी देवी) – दोनों ही ईश्वर-विश्वासी,भक्तहृदय थे। माता जी के जन्म से पहले व बहुत दिनों बाद तक इनकी माँ को सपने
Read More
freedom fighter played role as Gau Rakshak
Freedom Fighters Played Role as “Gau Rakshak”
भारत में गौहत्या विशेषकर अंग्रेजों का शासन स्थापित होने पर शुरू हुई । यहाँ पहले गौहत्या न के बराबर ही होती थी लेकिन अंग्रेजों ने इसे बढ़ावा दिया । भारत में स्वतंत्रता के बीज का अंकुरण गौ के कारण ही हुआ । 1857 ई. में जब अंग्रेज सरकार ने कारतूसों में गाय की चरबी का प्रयोग शुरू किया तो गौभक्त भारतीय सिपाही यह सहन न कर पाये कि विदेशी विधर्मी
Read More

Categories

open all | close all