fbpx
Skip to content
safety precautions for yoga savdhania
20+ Safety Precaution For Yoga Exercise Guidelines [Savdhaniya]
Things to remember while performing Yoga asanas. Best Safety Guidelines Precaution For Yoga Exercise. 1. भोजन के छः घण्टे बाद, दूध पीने के दो घण्टे बाद या बिल्कुल खाली पेट ही आसन करें । 2. शौच-स्नानादि से निवृत्त होकर आसन किये जाएँ तो अच्छा है । 3. योगासन के बाद तुरंत कुछ न खायें न पियें । सिर्फ एक-दो घूँट पानी पी सकते हैं । 4. श्वास मुँह से न
Read More
Chamatkarik Omkar Prayog
Successful Student Tips: Vidhyarti Apni Soyi hui Shakti Jagaye
पूज्य बापूजी का विद्यार्थियों के लिए वरदान…!! कानों में उँगलियाँ डालकर लम्बा श्वास लो । जितना लम्बा श्वास लोगे उतने फेफड़ों के बंद छिद्र खुलेंगे, रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ेगी । श्वास रोककर कंठ में भगवान के पवित्र, सर्वकल्याणकारी ʹૐʹ का जप करो । मन में ʹप्रभु मेरे, मैं प्रभु काʹ बोलो । मुँह बंद रख के कंठ से ૐ…. ૐ…. ૐ…. ૐ….. ૐ…… ૐ….. ૐ….. ओઽઽઽम्…. का उच्चारण करते हुए श्वास छोड़ो ।
Read More
Supt vajrasan
[Supta Vajrasana]**: Pose Image, Benefits, Steps, Precautions
इस आसन में ध्यान करने से मेरूदण्ड को सीधा करने का श्रम नहीं करना पड़ता और मेरूदण्ड को आराम मिलता है । उसकी कार्य़शक्ति प्रबल बनती है । इस आसन का अभ्यास करने से प्रायः तमाम अंतःस्रावी ग्रन्थियों को, जैसे शीर्षस्थ ग्रन्थि, कण्ठस्थ ग्रन्थि, मूत्रपिण्ड की ग्रन्थि, ऊर्ध्वपिण्ड तथा पुरूषार्थ ग्रन्थि आदि को पुष्टि मिलती है । फलतः व्यक्ति का भौतिक एवं आध्यात्मिक विकास सरल हो जाता है । तन-मन
Read More
Paschimottanasana: Yoga Steps, Images, How to Benefits
इस आसन के अभ्यास से मन्दाग्नि, मलावरोध, अजीर्ण, उदररोग, कृमिविकार, सर्दी, खाँसी, वातविकार, कमर का दर्द, हिचकी, कोढ, मूत्ररोग, मधुप्रमेह, पैर के रोग, स्वप्नदोष, वीर्यविकार, रक्तविकार, एपेन्डीसाइटिस, अण्डवृद्धि, पाण्डुरोग, अनिद्रा, दमा, खट्टी डकारें आना, ज्ञानतन्तु की दुर्बलता, बवासीर, नल की सूजन, गर्भाशय के रोग, अनियमित तथा कष्टदायक मासिक, ब्नध्यत्व, प्रदर, नपुंसकता, रक्तपित्त, सिरोवेदना, बौनापन आदि अनेक रोग दूर होते हैं |
Read More
[धनुरासन]* Dhanurasana Steps, Benefits, Images
इस आसन में शरीर की आकृति खींचे हुए धनुष जैसी बनती है अतः इसको धनुरासन कहा जाता है । ध्यान मणिपुर चक्र में । श्वास नीचे की स्थिति में रेचक और ऊपर की स्थिति में पूरक ।
Read More

Categories

open all | close all