fbpx
Skip to content
Swami Vivekananda
मैं भारत की पूजा करने लग गया हूँ – Swami Vivekananda
स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda) जब अमरीका की यात्रा से लौटे तो एक अंग्रेज पत्रकार ने भारत की गुलामी और गरीबी की हँसी उड़ाने की नीयत से व्यंग्य भरे स्वर में उनसे पूछाः ʹʹऐश्वर्य और वैभव विलास की रंगभूमि अमेरिका को देखने के बाद आपको अपनी मातृभूमि कैसी लगती है ?” अंग्रेज पत्रकार ने सोचा कि विवेकानंद जी (Swami Vivekananda ji) अमेरिका की सम्पन्नता और चमक-दमक से प्रभावित हुए होंगे लेकिन
Read More
lakshmi ji ko laga prithvi par
लक्ष्मीजी को पृथ्वी पर स्थगन आदेश | A Pauranik Katha
…..~पूज्य संत श्री आशारामजी बापूजी एक बार लक्ष्मीजी पृथ्वी पर आयीं। लोग बैठे थे। आलसी थे। कह दिया, “माँ की जय हो।” लक्ष्मी जी ने उन सबके घर सुवर्ण से भर दिया। यह देखकर पृथ्वी रोती रोती लक्ष्मीजी के पास आयी और बोलीः “आप मेरे बच्चों के साथ अन्याय कर रही हो।” “पगली कहीं की ! मुझे तू रोकने-टोकने आयी है ? मैं तेरे बच्चों से अन्याय कर रही हूँ
Read More
guru gobind singh
मानुषी चमत्कार – Guru Gobind Singh Ji Story in Hindi
संत सताये तीनों जाये, तेज बल और वंश । एड़ा-एड़ा कई गया, रावण कौरव कंस।।  -पूज्य संत श्री आशारामजी बापू मुगल दरबार में विशेष हलचल मची हुई थी। संधि-वार्ता हेतु सिखों के सम्माननीय गुरु गोविंद सिंह जी (Guru Gobind Singh Ji)  आमंत्रण पर पधारे थे । उनकी ‘गुरु’ उपाधि से एक मौलवी के मन में बड़ा रोष था। वह सोचता था कि ‘संतों, सद्गुरुओं को तो सादे वस्त्र ही पहनने
Read More
bodh katha
मानवता में पहला स्थान – Hindi Bodh Katha
गुरु-सन्देश~ धनभागी हैं वे जिनके जीवन में आत्मवेत्ता गुरुओं का ज्ञान अर्थात् वेदांत का ज्ञान है।                                                                                                            
Read More
dr rajendra prasad
यह दिमाग अंडे से नहीं,दूध से बना है Dr Rajendra Prasad
आजादी के पूर्व की बात है। एक बार कांग्रेस कार्यकारिणी की बैठक में जिस रिपोर्ट के आधार पर एक महत्वपूर्ण प्रस्ताव पारित करना था वह नहीं मिल रही थी ।  सब चिंतित थे। सदस्यों को अचानक ध्यान आया कि वह रिपोर्ट डॉ. राजेंद्र प्रसाद (Dr Rajendra Prasad) पढ़ चुके हैं । जब राजेंद्र प्रसाद जी से पूछा गया तो वे बोले हाँ मैं पढ़ चुका हूं और आवश्यकता हो तो
Read More

Categories

open all | close all