Skip to content
Sant Charandas Ji Story in Hindi from Biography
Sant Charandas Ji Story in Hindi from Biography
Sant Charandas Ji Maharaj Story in Hindi: { मनुष्य जीवन वह सुंदर महल है जिसमें बहुत घना अँधेरा छाया हुआ है और गुरुदीक्षा एवं गुरुज्ञान के दीपक बिना वह विकार-वासनाओं, दुःख-शोक से भरा बड़ा भयावह हो जाता है, दुःखदायी हो जाता है । } एक दिन संत चरणदासजी महाराज (Sant Charandas) दिल्ली में यमुना किनारे सत्संग कर रहे थे । उसी समय घोड़े पर सवार वह रूपवान किशोर अपने साथियों
Read More
How did Rishi Panini became wisest (from being a fool)? Story
How did Rishi Panini became wisest (from being a fool)? Story
एक लड़का महामूर्ख था । उसका नाम था पाणिनि। उसे विद्यालय में भर्ती किया तो १४ साल की उम्र तक पहली कक्षा में नापास, नापास, नापास…। बाप ने बोला कि “इससे तो अच्छा मर जा !” माँ ने कहा: “मेरे पेट से तू पैदा हुआ, इससे अच्छा होता कि मेरे पेट से पत्थर पैदा होता तो तेरे बाप की नाराजगी नहीं सहनी पड़ती ।” हर वर्ष पिता की नाराजगी और
Read More
How Jijabai(Mother) became the reason of enormous strength in Shivaji Maharaj's life? (Hindi Explanation)
How Jijabai(Mother) became the reason of enormous strength in Shivaji Maharaj’s life? (Hindi Explanation)
17वीं शताब्दी का समय था । हिन्दुस्तान में मुगल शासकों का अत्याचार, लूटमार बढ़ती ही जा रही थी । हिन्दुओं को जबरन मुसलमान बनाया जा रहा था । मुगलों के अतिरिक्त पुर्तगालियों व अंग्रेजों ने भी भारतभूमि में अपने कदम जमाने शुरु कर दिये थे । परिस्थितियों के आगे घुटने टेक रहा हिन्दू समाज नित्यप्रति राजनैतिक तथा धार्मिक दुरावस्था की ओर अग्रसर हो रहा था । सबसे भयंकर प्रहार हमारी
Read More
Maharana Pratap Jayanti
Maharana Pratap Jayanti 2022 Special: A Short Story in Hindi
Maharana Pratap Jayanti 2022 Date : 2nd June 2022 तपती दोपहरी में अरावली की पर्वत मालाओं के बीच राणाप्रताप अपने पुत्र, पत्नी व नन्ही बेटी को साथ लिये किसी नये सुरक्षित स्थान की खोज में आगे बढ़े जा रहे थे । यह चित्तौड़ की पराधीनता का समय था । अकबर के सैनिक इस पहाड़ी के चप्पे-चप्पे में फैले हुए थे । ‘न जाने कब, कहाँ शत्रु-सैनिक आ पहुँचें ?’ इस
Read More
Childhood Motivational Story of Keshav Baliram Hedgewar (Founder of RSS)
Childhood Motivational Story of Keshav Baliram Hedgewar (Founder of RSS)
विद्यालय में बच्चों में मिठाई बाँटी जा रही थी । जब एक 11 वर्ष के बालक केशव को मिठाई का टुकड़ा दिया गया तो उसने पूछा : “मिठाई किस बात की है ?” कैसा बुद्धिमान रहा होगा वह बालक ! जीभ का लंपट नहीं वरन् विवेक-विचार का धनी रहा होगा । बालक को बताया गया : ‘आज महारानी विक्टोरिया का ‘बर्थ डे’ (जन्मदिन) है इसलिए खुशी मनायी जा रही है
Read More

Categories

open all | close all