इस आसन में शरीर की आकृति खींचे हुए धनुष जैसी बनती है अतः इसको धनुरासन कहा जाता है । ध्यान मणिपुर चक्र में । श्वास नीचे की स्थिति में रेचक और ऊपर की स्थिति में पूरक ।

Recommended Posts

1 Comment

  1. please tell me whatsapp group .i want to add.


Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *