Skip to content

Category: Sant Avtaran

Shri Asharamayan Path: Manokamna Purti

Shri Asharamayan Path: Manokamna Purti Path (Wish Fulfilment)

ब्रह्मज्ञानी महापुरुष संसाररूपी मरुस्थल में त्रिविध तापों से तप्त मानव के लिए विद्या विशाल वटवृक्ष हैं, गंगा का शीतल जीवनदायी प्रवाह हैं । यद्यपि ईश्वर-शास्त्र अनुगामी भक्त संतों के चरित्र तो शुरू से अंत तक

Read More »
Asharam bapu ki guru bhakti

Guru Bhakti Ne Asumal Se Asharam Bana Diya

पूज्य श्री अपने सद्गुरु भगवत्पाद साईं श्री लीलाशाहजी महाराज (Leela Shah ji Maharaj) की आज्ञा में रहकर खूब श्रद्धा व प्रेम से गुरुसेवा करते थे । भोजन में मात्र मूँग की दाल लेते । साढे

Read More »
guru ki agya palan

Know About AsharamJi Bapu & Motera Ashram, Ahemadabad

– Asharam Bapu Aur Motera Village आप अपने पूज्य सद्गुरुदेव की आज्ञा शिरोधार्य करके अपनी उच्च समाधि-अवस्था का सुख छोडकर अशांति की भीषण आग से तप्त लोगों में शांति का संचार करने हेतु समाज के

Read More »
Avtaran Divas Meaning in Hindi

प्राणिमात्र के कल्याण का हेतु होता है संत अवतरण! Avtaran Divas Meaning in Hindi

संतों को नित्य अवतार माना गया है। कभी-न-कभी, कहीं-न-कहीं संत होंगे और उनके हृदय में भगवान अवतरित होकर समाज में सही ज्ञान व सही आनंद का प्रकाश फैलाते हैं। उनके नाम पर, धर्म के नाम

Read More »

गुरु आज्ञा-पालन कैसे करें ?

“विचार से (अपनी बुद्धि से कुछ मिलावट किये बिना) सद्गुरु के आदेश का पालन करें, ऐसा करने से काम बन जायेगा।”  – श्री आनंदमयी माँ अहमदाबाद आश्रम की वाटिका में बगीचे की सेवा करने वाले

Read More »

प्राणिमात्र की आशाओं के राम : AsharamJi Bapu Avtaran Special

ब्रह्मनिष्ठ संत श्री आशारामजी बापू का पावन जीवन तो ऐसी अनेक घटनाओं से परिपूर्ण है, जिनसे उनकी करुणा-उदारता एवं परदुःखकातरता सहज में ही परिलक्षित होती है । आज से ३० वर्ष पहले की बात है~…

Read More »
pujya sant asahram ji bapu ke prerak jeevan prasang

पूज्य संत श्री आशाराम बापूजी के प्रेरक जीवन प्रसंग

 बहुत पहले की बात है। एक बार पूज्य बापूजी हिम्मतनगर आश्रम में रुके हुए थे। सुबह पूज्यश्री को कहीं दूसरी जगह सत्संग करने जाना था। रसोइया नाश्ते में हलवा बनाकर लाया तो बापूजी बोले ”चलो,

Read More »
peed parayi jaane re

पीड पराई जाणे रे… संत अवतरण – पूज्य संत श्री आशारामजी बापू

मणिनगर (अहमदाबाद) में एक बालक रहता था । वह खूब निष्ठा से ध्यान-भजन एवं सेवा-पूजा करता था और शिवजी को जल चढाने के बाद ही जल पीता था । एक दिन रास्ते में उसे एक

Read More »
sant avtaran

संत-अवतरण [Sant Avataran] AsharamJi Bapu

➠ अपने पूज्य संत श्री आशारामजी बापू के जन्म के पहले अज्ञात सौदागर एक शाही झूला अनुनय-विनय करके दे गया, बाद में पूज्य श्री अवतरित हुए। नाम रखा गया ‘आसुमल’ । ➠ ʹयह तो महान

Read More »