खजूर खाओ, स्वास्थ्य पाओ

khajoor-ke-labh

khajoor-ke-labh

खजूर खाओ, स्वास्थ्य पाओ ।

  • खजूर मधुर,पौष्टिक व सेवन करने के बाद तुरंत शक्ति स्फूर्ति देनेवाला है। यह त्रिदोषशामक है तथा मल व मूत्र को साफ लाता है।
  • इसमें कार्बोहाइड्रेट्स, प्रोटीन, कैल्शियम, पोटैशियम, मैग्नेशियम, फॉस्फोरस, लौह आदि प्रचुर मात्रा में पाये जाते हैं।
  • इसके सेवन से मस्तिष्क व हृदय की मासपेशियों को ताकत मिलती है।
  • खजूर रक्त को बढ़ाता है और यकृत (liver) के रोगों में लाभकारी है।
  • ३ से ५ खजूर अच्छी तरह धोकर रात को भिगो के सुबह खायें । बच्चों के लिए २ से ४ खजूर पर्याप्त है । इन्हें दूध या घी में मिलाकर खाना विशेष लाभदायी है ।

मस्तिष्क शक्तिवर्धक प्रयोग Increase Brain Power Hindi

6 से 10 काली मिर्च, 2 बादाम, 2 छोटी इलायची, 1 गुलाब का फूल व आधा चम्मच खसखस रात को एक कुल्हड़ में पानी में भिगोकर रखें। सुबह बादाम के छिलके उतारकर सबको मिलाकर पीस लें व गर्म दूध के साथ मिश्री मिलाकर पीएं । इसके बाद 2 घंटे तक कुछ न खायें। इससे मस्तिष्क की थकान दूर होकर तरावट आती है एवं शक्ति बढ़ती है । यह प्रयोग 2-3 हफ्ते नियमित करें ।

– पूज्य संत श्री आशारामजी बापू

तुलसी खाओ, स्मरण शक्ति बढ़ाओ ! Tulsi The Holy Basil

tulsi holy basil

सुबह खाली पेट में 5 पत्ते तुलसी के खाना :-
1) – तुलसी के पत्ते सूर्योदय के पश्चात ही तोड़ें और खाएं।
2) – तुलसी के पत्ते खाने के 1 घंटे बाद ही दूध पीयें।
3)- तुलसी के पत्ते दाँतो में न अटकें इसलिए कुल्ला करते हुए पानी पी लें।
4) – तुलसी से स्मरण शक्ति बढ़ती ही है, साथ ही कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी तथा अन्य लगभग 800 बीमारियां भी दूर होती हैं।

विशेष :- तुलसी पत्तों के स्थान पर “संत श्री आशारामजी आश्रम” द्वारा निर्मित तुलसी अर्क भी लिया जा सकता है ।

Tulsi Herb | Holy Basil | Benefits to eat Tulsi Herb in hindi 

प्रातः पानी प्रयोग [Drinking Warm water in morning]

drinking warm water morning

प्रातः सूर्योदय से पूर्व उठकर, मुँह धोये बिना, मंजन या दातुन करने से पूर्व हर रोज करीब सवा लीटर (चार बड़े गिलास) रात्रि का रखा हुआ पानी पीयें। उसके बाद 45 मिनट तक कुछ भी खायें-पीयें नहीं। पानी पीने के बाद मुँह धो सकते हैं, दातुन कर सकते हैं।

जब यह प्रयोग चलता हो उन दिनों में नाश्ता या भोजन के दो घण्टे के बाद ही पानी पीयें।

प्रातः पानी प्रयोग करने से हृदय, लीवर, पेट, आँत के रोग एवं सिरदर्द, पथरी, मोटापा, वात-पित्त-कफ आदि अनेक रोग दूर होते हैं। मानसिक दुर्बलता दूर होती है और बुद्धि तेजस्वी बनती है। शरीर में कांति एवं स्फूर्ति बढ़ती है।

बच्चे एक-दो गिलास पानी पी सकते हैं।

[Effects of Drinking Warm Water in morning]

क्यों करते हैं नीम का सेवन | Medicinal Plants Neem

Neem

चैत्र माह से गर्मी का प्रारम्भ हो जाती है, जिससे ऋतुजन्य बीमारियाँ जैसे – फोड़े-फुंसी, घमौरी तथा अन्य चर्मरोगों आदि से बचाव के लिए नीम (Neem) का सेवन उपयोगी होता है।
इस दिन स्वास्थ्य-सुरक्षा तथा चंचल मन की स्थिरता के लिए नीम की पत्तियों (Neem Leaf) को मिश्री, काली मिर्च,अजवायन आदि के साथ प्रसादरूप में लेने का विधान है ।

तात्त्विक दृष्टि से देखें तो हमारे जीवन-व्यवहार में कड़वे घूँट पीने के भी अवसर आते रहते हैं अतः नीम (Medicinal Plant Neem) का सेवन करते समय मानसिक तैयारी कर लेनी चाहिए कि ‘इस वर्ष प्रारब्धवश जो भी दुःख, मुसीबत, प्रतिकूलता, अपमान आदि के कड़वे घूँट पीने होंगे, उन्हें मैं प्रभु की कृपा समझकर पचा जाऊँगा । उस कड़वाहट को भी स्वास्थ्य का साधन बनाऊँगा । विघ्न-बाधा, दुःख की परिस्थितियों को भी ‘स्व’ में स्थित होने हेतु समता के अभ्यास का साधन बनाऊँगा । शरीर को ‘मैं’ व मन-बुद्धि के दोषों को अपने में न आरोपित करके साक्षी चैतन्य में टिकने का प्रयास करूँगा।

स्मृतिशक्ति प्रयोग 10

Improve My Memory Tips 10

अनार, पपीता एवं संतरे के रस को बराबर मात्रा में लेकर पीते रहने से स्मरणशक्ति तीव्र होती है ।

 

स्मृतिशक्ति प्रयोग 09

Improve My Memory Tips 9

२ ग्राम मुलहठी का चूर्ण गाय के दूध में मिलाकर कुछ दिनों तक नियमित रूप से पीते रहने से मस्तिष्क की कमजोरी दूर होकर स्मरणशक्ति बढती है ।

 

स्मृतिशक्ति प्रयोग 08

Improve My Memory Tips 8

गुलकंद   खाने   से  भी  स्मृतिशक्ति  को  बल मिलता है ।

 

स्मृतिशक्ति प्रयोग 07

Improve My Memory Tips 7

गर्मी के दिनों में पके पेठे की सब्जी खाने से स्मरणशक्ति में कमी नहीं आती है ।

 

स्मृतिशक्ति प्रयोग 06

Improve My Memory Tips 6

अनार  के  लाल-लाल  दानों  को नियमित रूप से खाते रहने से स्मरणशक्ति तीव्र हो जाती है ।