20+ Safety Precaution For Yoga Exercise Guidelines [Savdhaniya]

safety precautions for yoga savdhania

Things to remember while performing Yoga asanas. Best Safety Guidelines Precaution For Yoga Exercise.

1. भोजन के छः घण्टे बाद, दूध पीने के दो घण्टे बाद या बिल्कुल खाली पेट ही आसन करें ।

2. शौच-स्नानादि से निवृत्त होकर आसन किये जाएँ तो अच्छा है ।

3. योगासन के बाद तुरंत कुछ न खायें न पियें । सिर्फ एक-दो घूँट पानी पी सकते हैं ।

4. श्वास मुँह से न लेकर नाक से ही लेना चाहिए । योगासन के दौरान मुँह बंद रखें ।

5. आसनों में श्वास लेने-छोड़ने का सही क्रम हो, जैसा प्रशिक्षक बतायें या विधि में लिखा हो । गलत क्रम से करने पर नुकसान हो सकता है ।

6.  जगह खुली, हवादार हो, साफ हो, धूप, धुआं रहित हो । (आश्रम की गौचंदन धूपबत्ती का धूप कर सकते हैं )

7. गरम कम्बल, टाट या ऐसा ही कुछ बिछाकर आसन करें । खुली भूमि पर बिना कुछ बिछाये आसन कभी न करें, जिससे शरीर में निर्मित होने वाला विद्युत-प्रवाह नष्ट न हो जाये ।

8. आसन करते समय शरीर के साथ ज़बरदस्ती न करें । आसन कसरत नहीं है । अतः धैर्यपूर्वक आसन करें ।

9. आसन करने के बाद ठंड में या तेज हवा में न निकलें । स्नान करना हो तो थोड़ी देर बाद करें ।

10. आसन करते समय शरीर पर कम से कम वस्त्र, ढीले और सूती कपड़े होने चाहिए ।

11. योगासन के तुरंत बाद भारी काम न करें ।

12. आसन करते-करते और मध्यान्तर में और अंत में 10-15 मिनट शवासन करके, शिथिलीकरण के द्वारा शरीर के तंग बने स्नायुओं को आराम दें ।

13. आसन के बाद मूत्रत्याग अवश्य करें जिससे एकत्रित दूषित तत्व बाहर निकल जायें ।

14. आसन करते समय आसन में बताए हुए चक्रों पर ध्यान करने से और मानसिक जप करने से अधिक लाभ होता है ।

15. प्राणायाम में शरीर स्थिर और सीधा रखना चाहिए । श्वास झटके से न लें, न छोड़ें । श्वास की आवाज भी नहीं आनी चाहिए । ( श्वास तेल-धारवत् चलना चाहिए । )

16. योगासन भी सही क्रम में करने चाहिए । पहले खड़े होकर करने वाले, फिर बैठ के करने वाले, फिर लेट के करने वाले आसन करना चाहिए ।

17. आसन के बाद थोड़ा ताजा जल पीना लाभदायक है. ऑक्सिजन और हाइड्रोजन में विभाजित होकर सन्धि-स्थानों का मल निकालने में जल बहुत आवश्यक होता है । आसनों में भी ( 2-2 या 3 आसनों के बाद) बीच-बीच में थोड़ा-थोड़ा आराम करना चाहिए ।

18. स्त्रियों को चाहिए कि गर्भावस्था में तथा मासिक धर्म की अवधि में वे कोई भी आसन कभी न करें ।

19. स्वास्थ्य के आकांक्षी हर व्यक्ति को पाँच-छः तुलसी के पत्ते प्रातः चबाकर पानी पीना चाहिए । इससे स्मरण शक्ति बढ़ती है, एसीडीटी एवं अन्य रोगों में लाभ होता है ।

20. व्यायाम में शरीर की ऊर्जा खर्च होती है और व्यायाम के बाद थोड़ी थकावट लगती है परंतु योगासन करने के बाद शरीर में ऊर्जा आती है और स्फूर्ति लगती है । यदि आसनों के बाद थकावट लगती है तो इसका मतलब आसन सही तरीके से नहीं हो रहे हैं ।

~ योगासन साहित्य से

FAQ

Can we bath after yoga ?

योगासन करने के तुरंत बाद स्नान नहीं कर सकते ।

Can we sleep after doing yoga ?

हां

What to do before yoga in the morning

शौच-स्नानादि से निवृत्त होकर आसन किये जाएँ तो अच्छा है ।

Can we drink water before yoga in morning

1 घंटे पहले पी सकते है। बिल्कुल खाली पेट ही आसन करें ।

What to Eat After Yoga in the Morning

योगासन के बाद तुरंत कुछ न खायें ।

Best time to do yoga morning or night ?

सुबह खाली पेट

Yoga before or after bath ? Best time of day to do yoga ?

स्नान नहीं करना चाहिए।

What is the best time to do yoga in evening ?

खुली एवं हवादार जगह पर अपने समय अनुकूल कर सकते है।

When to do yoga after eating ?

खाने के तुरंत बाद योगासन न करें ।

How much time to do yoga ?

अपने समयानुसार पर नियमित करें ।

How many times can you do yoga in a day ?

अपने शरीर के अनुसार कर सकते है बस ज्यादा न हो ।

Best time to do yoga for weight loss

सोने से पहले ।

Can we do yoga in periods ?

स्त्रियों को चाहिए कि गर्भावस्था में वे कोई भी आसन कभी न करें ।

Can we do Yoga in Pregnancy ?

मासिक धर्म कि अवधि में कोई भी आसान कभी न करें ।

[Supta Vajrasana]**: Pose Image, Benefits, Steps, Precautions

Supt vajrasan

Supt vajrasan

इस आसन में ध्यान करने से मेरूदण्ड को सीधा करने का श्रम नहीं करना पड़ता और मेरूदण्ड को आराम मिलता है । उसकी कार्य़शक्ति प्रबल बनती है । इस आसन का अभ्यास करने से प्रायः तमाम अंतःस्रावी ग्रन्थियों को, जैसे शीर्षस्थ ग्रन्थि, कण्ठस्थ ग्रन्थि, मूत्रपिण्ड की ग्रन्थि, ऊर्ध्वपिण्ड तथा पुरूषार्थ ग्रन्थि आदि को पुष्टि मिलती है । फलतः व्यक्ति का भौतिक एवं आध्यात्मिक विकास सरल हो जाता है । तन-मन का स्वास्थ्य प्रभावशाली बनता है । जठराग्नि प्रदीप्त होती है । मलावरोध की पीड़ा दूर होती है । धातुक्षय, स्वप्नदोष, पक्षाघात, पथरी, बहरा होना, तोतला होना, आँखों की दुर्बलता, गले के टॉन्सिल, श्वासनलिका का सूजन, क्षय, दमा, स्मरणशक्ति की दुर्बलता आदि रोग दूर होते हैं ।

मत्स्यासन विधि और लाभ -Matsyasana (Fish Pose) Steps & Benefits

मत्स्य का अर्थ है मछली । इस आसन में शरीर का आकार मछली जैसा बनता है अतः मत्स्यासन कहलाता है । प्लाविनी प्राणायाम के साथ इस आसन की स्थिति में लम्बे समय तक पानी में तैर सकते हैं ।ध्यान विशुद्धाख्य चक्र में । श्वास पहले रेचक, बहिर्कुम्भक, फिर पूरक और रेचक ।

Continue reading

मयूरासन विधि और लाभ -Mayurasana (Peacock Pose) Steps & Benefits

इस आसन में मयूर अर्थात् मोर की आकृति बनती है इससे इसे मयूरासन कहा जाता है । ध्यान मणिपुर चक्र में । श्वास बाह्य कुम्भक ।

Continue reading

वज्रासन विधि और लाभ -Vajrasana for Weight Loss Steps & Benefits

वज्रासन का अर्थ है बलवान स्थिति । पाचनशक्ति, वीर्यशक्ति तथा स्नायुशक्ति देनेवाला होने से यह आसन वज्रासन कहलाता है ।

ध्यान मूलाधार चक्र में और श्वास दीर्घ ।

Continue reading

पद्मासन विधि और लाभ| Padmasana [Lotus Position] Steps & Benefits

padmasan

इस आसन में पैरों का आधार पद्म अर्थात कमल जैसा बनने से इसको पद्मासन या कमलासन कहा जाता है। ध्यान आज्ञाचक्र में अथवा अनाहत चक्र में। श्वास रेचक, कुम्भक, दीर्घ, स्वाभाविक।

Continue reading

योगमुद्रासन विधि और लाभ- Yoga Mudrasana Meaning, Pose & Benefits

योगाभ्यास में यह मुद्रा अति महत्त्वपूर्ण है इससे इसका नाम योगमुद्रासन रखा गया है । ध्यान मणिपुर चक्र में । श्वास रेचक, कुम्भक और पूरक ।

Continue reading

पवनमुक्तासन विधि और लाभ – Pavanamuktasana Yoga Steps & Benefits

pavanmuktasan

शरीर में स्थित पवन (वायु) यह आसन करने से मुक्त होता है इससे इसको पवनमुक्तासन कहा जाता है । ध्यान मणिपुर चक्र में । श्वास पहले पूरक फिर कुम्भक और रेचक ।

Continue reading

सिद्धासन विधि और लाभ- Siddhasana (Perfect Pose) Steps & Benefits

siddhasan

पद्मासन के बाद सिद्धासन का स्थान आता है। अलौकिक सिद्धियाँ प्राप्त करने वाला होने के कारण इसका नाम सिद्धासन पड़ा है। सिद्ध योगियों का यह प्रिय आसन है। यमों में ब्रह्मचर्य श्रेष्ठ है, नियमों में शौच श्रेष्ठ है वैसे आसनों में सिद्धासन श्रेष्ठ है।

Continue reading