siddhasan

पद्मासन के बाद सिद्धासन का स्थान आता है । अलौकिक सिद्धियाँ प्राप्त करने वाला होने के कारण इसका नाम सिद्धासन पड़ा है । सिद्ध योगियों का यह प्रिय आसन है । यमों में ब्रह्मचर्य श्रेष्ठ है, नियमों में शौच श्रेष्ठ है वैसे आसनों में सिद्धासन श्रेष्ठ है ।

ध्यान आज्ञाचक्र में और श्वास, दीर्घ, स्वाभाविक ।

Recommended Posts

6 Comments

  1. Hari Om Ji thanks very much

  2. Hari om

  3. Nice post for keeping the health fit.

  4. ऐसे गुरुवर को बारंबार प्रणाम जिन्होंने लाखों परिवार एवं छात्रों को अनुपम, सतमार्ग दिखाया हरिः ?️
    ??


Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *