इस आसन में मयूर अर्थात् मोर की आकृति बनती है इससे इसे मयूरासन कहा जाता है । ध्यान मणिपुर चक्र में । श्वास बाह्य कुम्भक ।

Recommended Posts

4 Comments

  1. Very nice

  2. Great information ?

  3. बहुत महत्वपूर्ण जानकारी दी आपने।
    में जरूर लाभ लूंगा मयूरासन का।

  4. अति सुंदर जानकारी अति सुंदर सेवा


Add a Comment

Your email address will not be published.