Pitu Paksha 2020 Shradh Special :

➠  विष्णु पुराण के अनुसार, श्राद्धकाल में भक्तिपूर्वक श्रेष्ठ ब्राह्मणों को यथाशक्ति भोजन कराना चाहिए । इसमें असमर्थ होने पर श्रेष्ठ ब्राह्मणों को कच्चा धान्य और थोड़ी दक्षिणा देने से भी श्राद्ध पूर्ण माना जाता है ।

➠ यदि इतना करने में भी कोई समर्थ न हों तो किसी भी श्रेष्ठ ब्राह्मण को प्रणाम करके एक मुट्ठी तिल दें अथवा पितरों के निमित्त पृथ्वी पर भक्ति एवं नम्रतापूर्वक सात-आठ तिलों से युक्त जलांजलि दे दें ।

➠ यदि इसका भी अभाव हो तो कहीं-न-कहीं से एक दिन की घास लाकर प्रीति और श्रद्धापूर्वक पितरों के उद्देश्य से गौ को खिलाएं। 

➠ इन सभी वस्तुओं का अभाव होने पर वन में (अथवा एकांत पवित्र स्थान में) जाकर अपने कक्षमूल (बगल) सूर्य आदि दिक्पालों को दिखाते हुए उच्च स्वर से यह कहें :

न मेऽस्ति वित्तं न धनं च नान्य- च्छ्राद्धोपयोग्यं स्वपितॄन्नतोऽस्मि ।

तृप्यन्तु भक्त्या पितरो मयैतौ कृतौ भुजौ वत्र्मनि मारुतस्य ।।

‘मेरे पास श्राद्ध-कर्म के योग्य न वित्त है, न धन है और न कोई अन्य सामग्री है।

➠ अतः मैं अपने पितृगण को नमस्कार करता हूँ । वे मेरी भक्ति से ही तृप्ति-लाभ करें, मैंने अपनी दोनों भुजाएँ आकाश में उठा रखी है । (विष्णु पुराण : 3.14.30) इस प्रकार अपने-अपने सामर्थ्य के अनुसार सभी व्यक्ति पितृगणों को तृप्त कर उनका आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं ।

~ श्राद्ध महिमा साहित्य से