Geeta Jayanti with images mp3 mahima mantra

Bhagvad Geeta Jayanti Vidhi with Images & Mp3 Audio

01 श्रीमद् भगवद् गीता - महिमा

Geeta Mahima
  • जीवन के सर्वांगीण विकास के लिए गीता एक अद्भुत ग्रंथ है ।
    भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं : गीता मे हृदयं पार्थ… गीता मेरा हृदय है अर्जुन ।
  • सम्पूर्ण विश्व में ‘श्रीमद्भगवद्गीता’ ही एक ऐसा ग्रंथ है जिसकी जयंती मनायी जाती है ।
  • गीता जयंती ‘मोक्षदा एकादशी’ के दिन मनायी जाती है ।
  • इसी दिन कुरुक्षेत्र के मैदान में भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को निमित्त बनाकर मनुष्यमात्र को ‘गीता-ज्ञान’ देकर परम सुख, परम शांति प्राप्त करने का मार्ग दिखाया ।
  • ‘गीता’ का ज्ञान जन्म-मरण के चक्र से मुक्ति देने वाला है ।
  • गीता के प्रत्येक अध्याय एवं मात्र एक श्लोक के पाठ का भी बड़ा माहात्म्य है ।
  • जिस मनुष्य के जीवन में ‘श्रीमद्भगवद्गीता’ का ज्ञान है, वह संसार की तमाम विघ्न -बाधाओं के बीच भी आनंद से रहता है और अपने परमात्म-पद को पाने में सफल हो जाता है ।

02 गीता-महिमा श्लोक :

हरि सम जग कछु वस्तु नहीं, प्रेम पंथ सम पंथ । सद्गुरु सम सज्जन नहीं, गीता सम नहीं ग्रंथ ।।

  • गीता के इस दुर्लभ ज्ञान की अनुभूति गीता के मर्मज्ञ आत्मसाक्षात्कारी महापुरुषों के चरणों में जाने से ही होती है । पूज्य संत श्री आशारामजी बापू ने कठोर तप व साधना द्वारा अपने गुरुदेव साँई श्री लीलाशाहजी महाराज की कृपा से गीता-ज्ञान आत्मसात् किया और गुरुदेव की आज्ञा शिरोधार्य करके अपने सत्संग के माध्यम से पिछले 50 वर्षों से देश-विदेश में जन-जन तक गीता-ज्ञान पहुँचाकर विश्व-कल्याण का मार्ग प्रशस्त कर रहे हैं ।

03 आओ जानें कैसे मनायी जाती है 'गीता जयंती' ?

  • श्रीमद्भगवद्गीता को सुंदर, ऊँचे आसन पर स्थापित करके पुष्प, धूप, दीप आदि से पूजन करें ।
  • गीता-माहात्म्य पढ़ने के बाद पाठ करें ।
  • प्रतिदिन कम-से-कम एक श्लोक पढ़ने का संकल्प अवश्य करें तथा करायें ।

04 ' गीता ' में है हर समस्या का समाधान

  • गीता के 18वें अध्याय का आखिरी श्लोक 21 बार जपकर के घर से बाहर निकलें तो नौकरी-धंधा, रोजी-रोटी बढ़िया चलेगी ।

05 श्लोक :

  • यत्र योगेश्वरः कृष्णो यत्र पार्थो धनुर्धरः । तत्र श्रीर्बिजयो भूतिध्रुवा नीतिर्मतिर्मम ॥

06 गीता के अध्याय की महिमा :

  • गीता के 15वें अध्याय का पाठ करके भोजन करने से भोजन भगवत्प्रसाद बन जाता है ।
  • गीता का १५ वां अध्याय पढ़ें अथवा डाउनलोड करें : Click Here
  • 7वें अध्याय का पाठ करके उसका पुण्यफल मृतात्माओं को अर्पण करने से उनको शांति व सद्गति मिलती है ।

07 गीतापाठ महिमा श्लोक :

  • गीतायाः श्लोकपाठेन गोविन्दस्मृतिकीर्तनात् । साधुदर्शनमात्रेण तीर्थकोटिफलं लभेत् ॥
  • ‘गीता के श्लोक के पाठ से, भगवान के स्मरण और कीर्तन से तथा आत्मतत्व में विश्वांतिप्राप्त संत के दर्शनमात्र से करोड़ों तीर्थ करने का फल प्राप्त होता है ।’

08 श्रीमद्भागवत गीता के कुछ कल्याणकारी श्लोकों का पाठ ।

  • आइये सभी मिलकर Video अनुसार श्रीमद्भागवत गीता के कुछ कल्याणकारी श्लोकों का पाठ करें ।​
 
  • गीता पूजन विधि के सभी ऑडियो, गीत एवं बैनर डाउनलोड करने के लिए : Click Here
  • मोक्षदा एकादशी एवं गीता जयंती की सम्पूर्ण जानकारी के लिए  : Click Here
  • गीता पूजन विधि के सभी ऑडियो, गीत एवं बैनर डाउनलोड करने के लिए : Click Here

जानिये ! क्यों है गीता विश्व का सर्वश्रेष्ठ ग्रंथ ।