• || श्री सदगुरु परमात्मने नमः ||

  • ➠ हाथ जोड़कर सभी प्रार्थना करेंगे –
  • गुरुब्रह्या ग़ुरुर्विष्णु: गुरुर्देवो महेश्वर: |
  • गुरुर्साक्षात्परब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नमः ॥
  • ध्यानमूलं गुरोर्मूर्ति: पूजामूलं गुरो: पदम्‌ |
  • मंत्रमूल गुरोर्वाक्यं मोक्षमूलं गुरोः कृपा ॥
  • अखण्डमण्डलाकारं व्याप्तं येन चराचरम् ।
  • तत्पदं दर्शितं येन तस्मै श्रीगुरवे नमः ।।
  • त्वमेव माता च पिता त्वमेव त्वमेव बंधुश्च सखा त्वमेव ।
  • त्वमेव विद्या द्रविणं त्वमेव त्वमेव सर्वं मम देव देव ॥
  • ब्रह्मानन्दं परमसुखदं केवलं ज्ञानमूर्तिं ।
  • द्वन्द्रातीतं गगनसदृशं तत्वमस्यादिलक्ष्यम् ॥
  • एकं नित्यं विमलमचलं सर्वधीसाक्षिभूतं ।
  • भावातीतं त्रिगुणरहितं सद्गुरुं तं नमामि ॥
  • श्री सद्गुरुदेव के चरणकमलों का माहात्म्य –

  • सर्वश्रुतिशिरोरत्नविराजितपदाम्बुजम्‌ ।
  • वेदान्तार्थप्रवक्तािरं तस्मात्संपूजयेद्‌ गुरुम्‌ ॥
  • गुरु सर्व श्रुतिरूप श्रेष्ठ रत्नों से सुशोभित चरणकमलवाले हैं और वेदान्त के अर्थों के प्रवक्ताक हैं | इसलिए श्री गुरुदेव की पूजा करनी चाहिए।
  • देही ब्रह्म भवेद्यस्मात्‌ त्वत्कृपार्थ वदामि तत्‌ ।
  • सर्वपापविशुद्धात्मा श्रीगुरो: पादसेवनात्‌ ॥
  • जिन गुरुदेव के पादसेवन से मनुष्य सर्व पापों से विशुद्धात्मा होकर ब्रह्मरूप हो जाता है वह तुम पर कृपा करने के लिए कहता हूँ ।
  • शोषणं पापपंकस्य दीपनं ज्ञानतेजस: ।
  • गुरो: पादोदकं सम्यक्‌ संसारार्णवतारकम्‌ ॥
  • श्री गुरुदेव का चरणामृत पापरूप कीचड़ का सम्यक्‌ शोषक है, ज्ञानतेज का सम्यक्‌ उद्दधीपक है और संसारसागर का सम्यक्‌ तारक है |
  • अज्ञानमूलहरणं जन्मकर्मनिवारकम्‌ ।
  • ज्ञानवैराग्यसिद्ध्यर्थ गुरुपादोदकं पिबेत्‌ ॥
  • अज्ञान की जड़ को उखाड़नेवाले, अनेक जन्मों के कर्मों का निवारण करनेवाले, ज्ञान और वैराग्य को सिद्ध करनेवाले श्रीगुरुदेव के चरणामृत का पान करना चाहिए |
  • काशीक्षेत्रं निवासश्च जाह्नवी चरणोदकम्‌ ।
  • गुरुविश्वेश्वर: साक्षात्‌ तारकं ब्रह्मनिश्चय: ॥
  • गुरुदेव का निवासस्थान काशी क्षेत्र है | श्री गुरुदेव का पादोदक गंगाजी है | गुरुदेव भगवान विश्वनाथ और निश्चित ही साक्षात्‌ तारक ब्रह्म हैं ।
  • गुरुसेवा गया प्रोक्ता देह: स्यादक्षयो वट:।
  • तत्पादं विष्णुपादं स्यात्‌ तत्र दत्तमनस्ततम्‌ ॥
  • गुरुदेव की सेवा ही तीर्थराज गया है | गुरुदेव का शरीर अक्षय वटवृक्ष है । गुरुदेव के श्रीचरण भगवान विष्णु के श्रीचरण हैं । वहाँ लगाया हुआ मन तदाकार हो जाता है ।
  • सप्तसागरपर्यन्तं तीर्थस्नानफलं तु यत्‌ ।
  • गुरुपादपयोबिन्दो: सहस्रांशेन तत्फलम्‌ ॥
  • सात समुद्र पर्यन्त के सर्व तीर्थों में स्नान करने से जितना फल मिलता है वह फल श्री गुरुदेव के चरणामृत के एक बिन्दु के फल का हजारवाँ हिस्सा है |
  • दृश्यविस्मृतिपर्यन्तं कुर्याद्‌ गुरुपदार्चनम्‌ ।
  • तादृशस्यैव कैवल्यं न च तद्व्यतिरेकिण: ॥
  • जब तक दृश्यप्रपंच की विस्मृति न हो जाय तब तक गुरुदेव के पावन चरणारविन्द की पूजा-अर्चना करनी चाहिए । ऐसा करनेवाले को ही कैवल्यपद की प्राप्ति होती है, इससे विपरीत करनेवाले को नहीं होती ।
  • पादुकासनशय्यादि गुरुणा यदभीष्टितम् ।
  • नमस्कुर्वीत तत्सर्वं पादाभ्यां न स्पृशेत् क्वचित् ।।
  • पादुका, आसन, बिस्तर आदि जो कुछ भी गुरुदेव के उपयोग में आते हों उन सभीको नमस्कार करना चाहिए और उनको पैर से कभी भी नहीं छूना चाहिए।
  • विजानन्ति महावाक्यं गुरोश्चरणसेवया ।
  • ते वै संन्यासिनः प्रोक्ता इतरे वेषधारिणः ॥
  • गुरुदेव के श्रीचरणों की सेवा करके महावाक्य के अर्थ को जो समझते हैं वे ही सच्चे संन्यासी है, अन्य तो मात्र वेशधारी है।
  • चार्वाकवैष्णवमते सुखं प्राभाकरे न हि ।
  • गुरोः पादान्तिके यद्वत्सुखं वेदान्तसम्मतम् ॥
  • गुरुदेव के श्रीचरणों में जो वेदान्तनिर्दिष्ट सुख है वह सुख न चार्वाक मत में, न वैष्णव मत में और न प्राभाकर (सांख्य) मत में है।
  • गुरुभावः परं तीर्थमन्यतीर्थ निरर्थकम् ।
  • सर्वतीर्थमयं देवि श्रीगुरोश्चरणाम्बुजम् ॥
  • गुरुभक्ति ही सबसे श्रेष्ठ तीर्थ है। अन्य तीर्थ निरर्थक हैं। हे देवि! गुरुदेव के चरणकमल सर्वतीर्थमय है।
  • सर्वतीर्थावगाहस्य संप्राप्नोति फलं नरः ।
  • गुरोः पादोदकं पीत्वा शेषं शिरसि धारयन् ।।
  • श्री सद्गुरु के चरणामृत का पान करने से और उसे मस्तक पर धारण करने से मनुष्य सर्व तीथों में स्नान करने का फल प्राप्त करता है।
  • गुरुपादोदकं पानं गुरोरुच्छिष्टभोजनम् ।
  • गुरुमूर्तेः सदा ध्यानं गुरोनाम्नः सदा जपः ।।
  • गुरुदेव के चरणामृत का पान करना, गुरुदेव के भोजन में से बचा हुआ खाना, गुरुदेव की मूर्ति का ध्यान करना और गुरुनाम का जप करना चाहिए।
  • यस्य प्रसादादहमेव सर्व मय्येव सर्व परिकल्पितं च ।
  • इत्थ विजानामि सदात्मरूपं तस्यांधिपा प्रणतोऽस्मि नित्यम् ।।
  • मैं ही सब हूँ, मुझमें ही सब कल्पित है’ ऐसा ज्ञान जिनकी कृपा से हुआ है ऐसे आत्मस्वरूप श्री सद्गुरुदेव के चरणकमलों में मैं नित्य प्रणाम करता हूँ।
  • आकल्पजन्मकोटीनां यशवततपः क्रियाः ।
  • ताः सर्वाः सफला देवि गुरुसन्तोषमात्रतः ॥
  • हेदेवि!कल्पपर्यन्त के, करोड़ोंजन्मों केयज्ञ, व्रत,तपऔर शास्त्रोक्त क्रियाएँ, ये सब गुरुदेव के संतोषमात्र से सफल हो जाते हैं।
  • ➠ ऐसे महिमायान श्रीसद्गुरुदेव के पावन चरणकमलों का षोडषोपचार से पूजन करने से साधक-शिष्य का हृदय शीघ्र शुद्ध और उन्नत बन जाता है।
  • मन ही मन भावना करो कि हम गुरुदेव के श्रीचरण धो रहे हैं…

  • ➠ सप्ततीर्थों के जल से उनके पादारविन्द को स्नान करा रहे हैं।खूब आदर एवं कृतज्ञतापूर्वक उनके श्रीचरणों में दृष्टि रखकर…श्रीचरणों को प्यार करते हुए उनको नहला रहे हैं…
  • ➠ उनके तेजोमय ललाट में शुद्ध चन्दन का तिलक कर रहे हैं…
  • ➠ अक्षत चढ़ा रहे हैं…
  • ➠ अपने हाथों से बनाई हुई गुलाब के सुन्दर फूलों की सुहावनी माला अर्पित करके अपने हाथ पवित्र कर रहे हैं…
  • ➠ हाथ जोड़कर, सिर झुकाकर अपना अहंकार उनको समर्पित कर रहे हैं…पाँच कर्मेन्द्रियों की, पाँच ज्ञानेन्द्रियों की एवं ग्यारहवें मन की चेष्टाएँ गुरुदेव के श्रीचरणों में समर्पित कर रहे हैं…
  • कायेन वाचा मनसेन्द्रियैर्वा बुद्ध्याऽऽत्मना वा प्रकृतेः स्वभावात्।
  • करोमि यद् यद् सकलं परस्मै नारायणायेति समर्पयामि ।।
  • ‘शरीर से, वाणी से, मन से, इन्द्रियों से, बुद्धि से अथवा प्रकृति के स्वभाव से जो-जो करते हैं वह सब समर्पित करते हैं। हमारे जो कुछ कर्म है,हे गुरुदेव सब आपके श्रीचरणों में समर्पित है। हमारा कपिन का भाव, हमारा भोक्तापन का भाव आपके श्रीचरणों में समर्पित है। इस प्रकार ब्रह्मवेत्ता सद्गुरु की कृपा को, ज्ञान को, आत्मशान्ति को हृदय में भरते हुए उनके अमृतवचनों पर अडिग बनते हुए अन्तर्मुख होते जाओ.., आनन्दमय बनते जाओ…
  • ॐ आनंद! ॐ आनंद ॐ आनंद
  • गुरु पूर्णिमा विशेष पेज ..

  • ➠ जिसमें आप गुरु का महत्व, विशेष लेख, पूजन की जानकारी, पूज्यश्री का संदेश, विडियो-ऑडियो का भी लाभ आप सभी लें पाएंगे…Click Here
  • मंत्र सिद्धि का अचूक उपाय – माला पूजन

  • ➠ माला पूजन एवं स्तुति-प्रार्थना के महापुण्यमय अवसर का लाभ लें। जानिए माला पूजन कैसे करें ? Click Here
  • मानस पूजन विशेष पेज ..

  • ➠ जिसमें आप पाएंगे मंत्रो सहित विधिवत मानस पूजन की विधि…Click Here