यदि आपके बच्चे पढ़ाई में ध्यान न देते हों, आलसी अथवा चंचल हों और आप चाहते हैं कि वे पढ़ाई में ध्यान दें तो क्या करें ???

डाँटने,फटकारने,मारने से काम नहीं चलेगा। बेटे,बेटी को ज्यादा डांटे-फटकारें तो वे सोचते हैं कि ‘ये तो मुझे डाँटते ही रहते हैं!’

इसके लिए एक छोटा-सा प्रयोग है :
अशोक वृक्ष के तीन-तीन पत्तों से चित्रानुसार बंदनवार (तोरण) बनाकर बच्चे के कमरे के दरवाजे की चौखट पर गुरुवार के दिन बाँध दें और संकल्प करें कि “मेरे बच्चे का मन पढ़ाई में लगे।”

अगले गुरुवार को पहले वाले उतार के ताजे पत्तों की नयी बंदनवार लगा दें।

फिर तीसरे गुरुवार भी ऐसा करें। इस प्रकार तीन गुरुवार के बाद एक गुरुवार छोड़ दें। तीन-तीन करके कुल नौ गुरुवार तक यह प्रयोग करें। इससे लाभ होगा।

–श्री सुरेशानन्दजी के सत्संग प्रवचन से