Skip to content

Category: Gau Sewa

Shri Krishna ke anmol ratan gau aur geeta

Bhagwan Shri Krishna Ke Priya Anmol Ratan: Gau Aur Geeta

Lord Shri Krishna’s Favourite Things/ Animal ➠ भगवान श्रीकृष्ण का सम्पूर्ण जीवन मानवजाति के लिए एक महान आदर्श है ही परन्तु उनके जो दो प्रिय अनमोल रत्न हैं वे भी सभी के लिए आदरणीय,माननीय हैं।

Read More »
Cow Dung Gobar Benefits

Cow Dung Benefits, Uses [Gobar ke Uple/ Kande Ke Fayde in Hindi]

गाय का दूध, दही, घी आदि तो स्वास्थ्यप्रद हैं ही, किंतु उसका गोबर और झरण भी बहुत लाभदायी हैं। वैज्ञानिक अनुसंधानों के अनुसार देशी गाय का गोबर’ असंक्रामक है। इसमें फॉस्फोरस नामक तत्त्व बहुतायत में

Read More »
freedom fighter played role as Gau Rakshak

Freedom Fighters Played Role as “Gau Rakshak”

भारत में गौहत्या विशेषकर अंग्रेजों का शासन स्थापित होने पर शुरू हुई । यहाँ पहले गौहत्या न के बराबर ही होती थी लेकिन अंग्रेजों ने इसे बढ़ावा दिया । भारत में स्वतंत्रता के बीज का

Read More »
Gau raksha me hai manavata, swasthya v sanskriti ki raksha

Gau Raksha: Saving Humanity, Health & Culture

-पूज्य बापूजी गाय की रक्षा करने वाले हम कौन होते हैं ? अरे ! गाय तुम्हारी-हमारी और पर्यावरण की रक्षा करती है । चौरासी लाख प्राणी हैं किंतु देशी गाय के अलावा किसी का मल

Read More »
importance of Indian desi cow

Advantages/ Importance of Indian Desi Cow [देसी गाय]

भारतीय गायें विदेशी तथाकथित गायों की तरह बहुत समय तक जंगलों में हिंसक पशु के रूप में घूमते रहने के बाद घरों में आकर नहीं पलीं, वे तो शुरू से ही मनुष्यों द्वारा पाली गयी

Read More »
Bharat Kalyan k liye Gau Raksha Anivarya

Madan Mohan Malviya Quotes Sayings for “Gau Rakshak” [Gau Seva]

– पं. मदनमोहन मालवीयजी आप जानते हैं कि भारत के कल्याण के लिए गौ-रक्षा अनिवार्य है । संसार का जो उपकार गौमाता ने किया है, उसके महत्व को जानते हुए भी लोग गौ की उपेक्षा

Read More »
gau mata ka vardan

Gau Mata Vardan Hai Manav Ke liye: Cow’s Milk, Dung, Khad Benefit

लक्ष्मीश्च गोमये नित्यं पवित्र सर्वमंगल्या | (स्कंद ०,अव०,रेवा ० ६३/१०८ ) अर्थात– गोबर में परम पवित्र सर्व मंगलमयी श्री लक्ष्मी जी का नित्य निवास है , जिसका अर्थ यही है कि ‘गोबर में सारी धन -सम्पदा समायी हुई है|’ लाभ तो अनेक हैं, उसमें से

Read More »