➠ भगवान वेदव्यास जी ने कहा है :-

ब्रह्मचर्यं गुप्तेन्द्रियस्योपस्थस्य संयमः

ʹविषय-इन्द्रियों द्वारा प्राप्त होने वाले सुख का संयमपूर्वक त्याग करना ब्रह्मचर्य है ।ʹ

शक्ति, प्रभाव और सभी क्षेत्रों में सफलता की कुंजी – ब्रह्मचर्य

➠ राजा जनक शुकदेव जी से बोले :-

तपसा गुरुवृत्त्या च ब्रह्मचर्येण वा विभो।

ʹबाल्यावस्था में विद्यार्थी को तपस्या, गुरु की सेवा, ब्रह्मचर्य का पालन एवं वेदाध्ययन करना चाहिए ।ʹ (महाभारत, मोक्षधर्म पर्वः 326.15)

➠ ब्रह्मचर्य का ऊँचे-में-ऊँचा अर्थ हैः ब्रह्म में विचरण करना । ʹजो मैं हूँ वही ब्रह्म है और जो ब्रह्म है वही मैं हूँ….ʹ ऐसा अनुभव जिसे हो जाये वही ब्रह्मचारी है ।

ʹव्रतों में ब्रह्मचर्य उत्कृष्ट है ।ʹ (अथर्ववेद)

ʹअब्रह्मचर्य घोर प्रमाद रूप पाप है ।ʹ (दश वैकालिक सूत्रः 6.17)

➠ अतः चलचित्र और विकारी वातावरण से अपने को बचायें । पितामह भीष्म, हनुमानजी और गणेशजी का चिंतन करने से रक्षण होता है ।

✯ “मैं विद्यार्थियों और युवकों से यही कहता हूँ कि वे ब्रह्मचर्य और बल की उपासना करें । बिना शक्ति व बुद्धि के, अधिकारों की रक्षा और प्राप्ति नहीं हो सकती । देश की स्वतंत्रता वीरों पर ही निर्भर है ।” – लोकमान्य तिलक

ब्रह्मचर्य रक्षा का मंत्र :-

ૐ नमो भगवते महाबले पराक्रमाये मनोभिलाषितं मनः स्तंभ कुरु कुरु स्वाहा ।

➠ रोज दूध में निहारकर 21 बार इस मंत्र का जप करें और दूध पी लें । इससे ब्रह्मचर्य की रक्षा होती है ।

आश्रम से प्रकाशित ʹदिव्य प्रेरणा प्रकाशʹ पुस्तक बार-बार पढ़ें-पढ़ायें । Click Here