➠ गृहस्थ दंपति के लिए ब्रह्मचर्य-व्रत (Brahmacharya) की सफलता हेतु निम्नलिखित नियमों का पालन करना बहुत ही उपयोगी सिद्ध होगा :

✯ ब्रह्मचर्य क्या है व जरूरी क्यों  ?  पढ़ने के लिए : – Click Here

How to Practice Brahmacharya For Married in Hindi – Rules

● पति-पत्नी को अलग-अलग कमरों में सोना चाहिए और सम्पूर्ण एकांत में साथ-साथ नहीं रहना चाहिए ।

● पारिवारिक प्रार्थना : दोनों को अथवा परिवार के सभी लोगों को साथ मिलकर दिन में दो बार प्रार्थना-स्तवन, शास्त्र-पठन आदि करना चाहिए । इससे पति-पत्नी एक-दूसरे को भोग के साधन के रूप में न देखकर जगतरूपी धर्मशाला में कुछ समय के लिए मिलने वाले दो पथिकों के रूप में अनुभव करेंगे । इससे पति-पत्नी के बीच भोग प्रधान संबंध छूट जायेगा और परस्पर निर्मल, दिव्य प्रेम संबंध सरलता से जन्मेगा व स्थिर होगा ।

● भूतकाल की रति-क्रीड़ाओं और शृंगार-चेष्टाओं की स्मृति को मिटा देना चाहिए ।

● एक-दूसरे को स्त्री या पुरुष रूप में देखने के बदले देह के साथ रहने वाले देही (परमात्मा) रूप में देखने का प्रयत्न करना चाहिए ।

● शरीर और मन को निरन्तर सत्कार्य या सेवाकार्य में जोड़े रखना चाहिए । अपने इष्टमंत्र के जप में मन को रत रखना चाहिए । इससे कामवृत्ति नहीं जगेगी, साथ ही कामवासना पर विजय कराने वाली आध्यात्मिक शक्ति बढ़ती जायेगी ।

● संयमी जीवन शुरू करने पर पति को कभी स्वप्नदोष हो जाए तो उससे क्षुब्ध नहीं होना चाहिए । इस समय पत्नी के साथ क्रीड़ा कर लेना उचित है, ऐसा समझना योग्य नहीं है । ऐसा सोचने पर तो ब्रह्मचर्य की उपासना हो ही नहीं सकती ।

✯ ब्रह्मचर्य पालन के लिए ब्रह्मचर्यासन की विधि व लाभ जानने के लिए : – Click Here

(ऐसी अनेक हितभरी बातों को जानने हेतु पढें मासिक समाचार पत्र ‘लोक कल्याण सेतु’)

15+ Best Rules of Brahmcaharya [Rules of Celibacy in Hindi]

In rules me Brahmacharya Palank Ke Niyam/ Upaye, Brahmcharya Diet, Yogasana, Mantra for Brahcmacharya Ye sab dia hua hai.

(ब्रह्मलीन ब्रह्मनिष्ठ स्वामी श्री लीलाशाहजी महाराज के प्रवचन से)

➠ ऋषियों का कथन है कि ‘ब्रह्मचर्य ब्रह्म-परमात्मा के दर्शन का द्वार है, उसका पालन करना अत्यंत आवश्यक है । इसलिए यहाँ हम ब्रह्मचर्य-पालन के कुछ सरल नियमों एवं उपायों की चर्चा करेंगे :

1). ब्रह्मचर्य तन से अधिक मन पर आधारित है । इसलिए मन को नियंत्रण में रखो और अपने सामने ऊँचे आदर्श रखो ।

2). आँख और कान मन के मुख्यमंत्री हैं । इसलिए गंदे चित्र व भद्दे दृश्य देखने तथा अभद्र बातें सुनने से सावधानी पूर्वक बचो ।

3). मन को सदैव कुछ-न-कुछ चाहिए । अवकाश में मन प्रायः मलिन हो जाता है । अतः शुभ कर्म करने में तत्पर रहो व भगवन्नाम-जप में लगे रहो ।

4). ‘जैसा खाये अन्न, वैसा बने मन।’ – यह कहावत एकदम सत्य है । गरम मसाले, चटनियाँ, अधिक गरम भोजन तथा मांस, मछली, अंडे, चाय कॉफी, फास्टफूड आदि का सेवन बिल्कुल न करो ।

5). भोजन हल्का व चिकना स्निग्ध हो । रात का खाना सोने से कम-से-कम दो घंटे पहले खाओ ।

6). दूध भी एक प्रकार का भोजन है । भोजन और दूध के बीच में तीन घंटे का अंतर होना चाहिए ।

7). वेश का प्रभाव तन तथा मन दोनों पर पड़ता है । इसलिए सादे, साफ और सूती वस्त्र पहनो । खादी के वस्त्र पहनो तो और भी अच्छा है । सिंथेटिक वस्त्र मत पहनो । खादी, सूती, ऊनी वस्त्रों से जीवनीशक्ति की रक्षा होती है व सिंथेटिक आदि अन्य प्रकार के वस्त्रों से उनका ह्रास होता है ।

8). लँगोटी बाँधना अत्यंत लाभदायक है । सीधे, रीढ़ के सहारे तो कभी न सोओ, हमेशा करवट लेकर ही सोओ । यदि चारपाई पर सोते हो तो वह सख्त होनी चाहिए ।

9). प्रातः जल्दी उठो । प्रभात में कदापि न सोओ । वीर्यपात प्रायः रात के अंतिम प्रहर में होता है ।

10). पान मसाला, गुटखा, सिगरेट, शराब, चरस, अफीम, भाँग आदि सभी मादक (नशीली) चीजें धातु क्षीण करती हैं । इनसे दूर रहो ।

11). लसीली (चिपचिपी) चीजें जैसे – भिंडी, लसौड़े आदि खानी चाहिए । ग्रीष्म ऋतु में ब्राह्मी बूटी का सेवन लाभदायक है । भीगे हुए बेदाने और मिश्री के शरबत के साथ इसबगोल लेना हितकारी है ।

12). कटिस्नान करना चाहिए । ठंडे पानी से भरे पीपे में शरीर का बीच का भाग पेटसहित डालकर तौलिये से पेट को रगड़ना एक आजमायी हुई चिकित्सा है । इस प्रकार 15-20 मिनट बैठना चाहिए । आवश्यकतानुसार सप्ताह में एक-दो बार ऐसा करो ।

13). प्रतिदिन रात को सोने से ठंडा पानी पेट पर डालना बहुत लाभदायक है ।

14). बदहज्मी व कब्ज से अपने को बचाओ ।

15). सेंट, लवेंडर, परफ्यूम आदि से दूर रहो । इन्द्रियों को भड़काने वाली किताबें न पढ़ो, न ही ऐसी फिल्में और नाटक देखो ।

16). विवाहित हो तो भी अलग बिछौने पर सोओ ।

17). हर रोज प्रातः और सायं व्यायाम, आसन और प्राणायाम करने का नियम रखो ।

📚निरोगता का साधन