MPPD Arati M
Matri Pitri Poojan Divas Aarti PDF MP3 Download

Play Audio Mp3 of Mata Pita Aarti

दीप प्रज्वलन श्लोक :
दीपज्योतिः परब्रह्म दीपज्योतिर्जनार्दनः ।
दीपो हरतु मे पापं दीपज्योतिर्नमोऽस्तुते ॥

Om Jai Jai Mata Pita Aarti in Hindi

ॐ जय जय मात-पिता…

ॐ जय जय मात-पिता, प्रभु गुरुजी मात-पिता ।
सद्भाव देख तुम्हारा – २, मस्तक झुक जाता ।।
ॐ जय जय…

कितने कष्ट उठाये हमको जनम दिया, मइया पाला – बड़ा किया ।
सुख देती, दुःख सहती – २, पालनहारी माँ ॥
ॐ जय जय….

अनुशासित कर आपने उन्नत हमें किया, पिता आपने जो है दिया ।
कैसे ऋण मैं चुकाऊँ – २, कुछ न समझ आता ॥
ॐ जय जय…
सर्व तीर्थमयी माता सर्व देवमय पिता, ॐ सर्व देवमय पिता ।
जो कोई इनको पूजे – २, पूजित हो जाता ।।
ॐ जय जय…

मात-पिता की पूजा गणेशजी ने की, श्रीगणेशजी ने की ।
सर्वप्रथम गणपति को – २, ही पूजा जाता ।।
ॐ जय जय…

बलिहारी सद्गुरु की मारग दिखा दिया, सच्चा मारग दिखा दिया ।
मातृ-पितृ पूजन कर – २, जग जय जय गाता ।।
ॐ जय जय…

मात-पिता प्रभु गुरु की आरती जो गाता, है प्रेम सहित गाता।
वो संयमी हो जाता, सदाचारी हो जाता, भव से तर जाता ॥
ॐ जय जय…

लफंगे-लफंगियों की नकल छोड़, गुरु सा संयमी होता, गणेशजी सा संयमी होता ।
स्वयं आत्मसुख पाता – २, औरों को पवाता ॥
ॐ जय जय…

(आरती की तर्ज – ॐ जय जगदीश हरे…)

Maa Pita Aarti PDF & Mp3 Download

Top Aarti of Mata Pita - Om jai jai Mata Pita