Sadhako Ne bandhi Prem ki Doori (Rakhi) – Vedic Raksha Bandhan 2020 Special.

साधकों ने है बाँधी प्रेम की डोरी सदगुरु आयेंगे ।
हम सबकी लगी है प्रीत की डोरी कि सद्गुरु आयेंगे ।।
अपना बनाते दर पे बुलाते गिरते हुओं को उठाते हैं ।
मेरे सद्गुरु हैं इतने महान कि रखते हैं सबका ध्यान ।।

(१) गहरा पावन दुर्लभ सत्संग सबको सहज में सुनाते हैं गुरुवर ।
नाम की दौलत मोक्ष की कुंजि हम सबको दे देते हैं गुरुवर ।
सबसे निराले सबको सँभालें हम सबके रखवाले हैं ।

मेरे सदगुरु हैं….. ।। टेक ।।

(२) धन दौलत और मान-बड़ाई इनका मोह छुड़ाते हैं गुरुवर ।
भीतर का सुख आनंद शांति अंतर घट में दिलाते हैं गुरुवर ।
तन भी है तेरा मन भी है तेरा तुम ही केवल हमारे हो ।

मेरे सदगुरु हैं….. ।। टेक ।।

(३) द्वार पे इनके जो भी आता खाली नहीं लौटाते हैं गुरुवर ।
झोली भरते दुःख भी हरते दाता सभी के कहाते हैं गुरुवर ।
विघ्न विनाशी सब ओर वासी तुम ही जग से न्यारे हो ।

मेरे सदगुरु हैं….. ।। टेक ।।

✯ रक्षाबंधन का अर्थ, राखी बँधवाने का उचित समय , कैसे मनाये रक्षाबंधन ? , वैदिक राखी का महत्त्व एवं कैसे बनायें ? रक्षाबंधन महोत्सव का इतिहास.. और भी बहुत कुछ.. पढ़ने के लिए : – Click Here